मैन टू मैन फैलने वाला विषाणु ने किया दिल्ली का रुख ! -केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिल्ली सरकार को लिखी तल्ख चिट्ठी -स्वास्थ्य सचिव ने बुलाई बैठक, एजेंसियां को किया एलर्ट -चौबीस घंटे में एक ने तोड़ा दम, महीने भर में दूसरा मामला, 119 फ्लू ग्रस्त उपचाराधीन

0
760

ज्ञानप्रकाश,नई दिल्ली गुजरात, राजस्थान और महाराष्ट्र के साथ ही अब दिल्ली में भी मैन टू मैन फैलने वाला संक्रामक वायरस एच1एन1 स्वाइन फ्लू तेजी से सक्रिय हो गया है। जहां बीते चौबीस घंटे में एक निजी अस्पताल में उपाराधीन मरीज ने दम तोड़ दिया है वहीं इस माह में अब तक स्वाइन फ्लू से मृतकों की संख्या दो हो चुकी है। इस दौरान एम्स, आरएमएल, सफदरजंग अस्पताल में अब तक 119 मरीज भर्ती कराए गए हैं। हालांकि इसमें से 78 फीसद मरीजों को भर्ती करने के कुछ घंटे या चौबीस घंटे तक आब्जरवेशन के बाद घर पर ही रह कर इलाज कराने की सलाह देकर छुट्टी कर दी गई है। लेकिन अन्य 22 फीसद मरीजों की हालत गंभीर बताई गई है। इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव प्रीति सूदान ने दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन को पत्र लिखकर एलर्ट किया है। पत्र में यह नसीहत देते हुए वार्निग दी गई है कि वह दिल्ली सरकार, नगर निगम, दिल्ली छावनी आदि क्षेत्रों के स्वास्थ्य निकायों को निर्देश जारी करें कि उनके यहां स्वाइन फ्लू संदिग्धों को त्वरित इलाज व नैदानिक सेवाएं प्रदान करने में तत्परता दिखाएं। फोजिटिव पाए जाने पर इसकी सूचना केंद्रीय संक्रामक रोग नियंतण्रकेंद्र को दें।
रिपोर्ट आने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने बुलाई बैठक:
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की हाल ही में सामने आई रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली में अब तक स्वाइन फ्लू से दो लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 119 मरीज अस्पतालों में भर्ती हो चुके हैं। मंत्रालय ने दिल्ली स्वास्थ्य विभाग को इस ओर ठोस कदम उठाने के निर्देश भी दिए हैं। दिल्ली के स्वास्थ्य सचिव संजीव खिरवार ने स्वास्थ्य निकायों के प्रमुखों को तलब कर रोकथाम के साथ ही जागरुकता के लिए ठोस कार्रवाई करने की हिदायत दी है। विभाग की ओर से सभी अस्पतालों को स्वाइन फ्लू पर अलर्ट रहने के निर्देश जारी कर दिए। इन दिनों स्वाइन फ्लू के मामले ज्यादा देखने को मिलते हैं। हालांकि खिरवार ने दावा किया कि दिल्ली में स्थिति नियंतण्रमें है। लेकिन अगले दो माह में मरीजों की संख्या में और भी ज्यादा बढ़ोत्तरी देखने को मिल सकती है। दरअसल, इस साल स्वाइन फ्लू से पहली मौत दिल्ली में आरएमएल अस्पताल में पहली मौत हुई थी।
एक नजर स्वाइन फ्लू की स्थिति:
स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार 21 अक्तूबर तक देश में स्वाइन फ्लू के कारण 615 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके कारण 8025 लोग बीमार पड़ चुके हैं। सर्वाधिक मौतें 259 महाराष्ट्र में, 200 राजस्थान में, 51 गुजरात में हो चुकी है। रिपोर्ट के अनुसार 14 अक्तूबर तक दिल्ली में स्वाइन फ्लू ग्रस्त मरीजों की संख्या 95 थी लेकिन इसके बाद महज सात दिन के भीतर अस्पतालों की ओर से 24 नए मरीजों के सामने आने की पुष्टि हुई है।
ऐसा करें:
एम्स के मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर डा. नवल विक्रम के मुताबिक अगर सर्दी खांसी और बुखार के अलावा डायरिया हो जाए तो स्वाइन फ्लू का पता लगाने के लिए तुरंत एच1एन1 की जांच करानी चाहिए। डॉक्टर विक्रम के मुताबिक स्वाइन फ्लू में बुखार के साथ सर्दी जुकामए सांस लेने में परेशानी होती है। गले में दर्द भी हो सकता है। कम प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों को यह बीमारी तेजी से हो सकती है। इसके लक्षण होने पर डॉक्टर को दिखाने के अलावा आराम करना खूब पानी पीना शरीर में पानी की कमी न होने देना इससे बचाव का सबसे बेहतर उपाय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here