राजधानी में डेंगू से दूसरी मौत! -ईस्ट किदवई नगर में 17 साल की बालिका की मौत

0
25

ज्ञान प्रकाश नई दिल्ली , राजधानी में तमाम कवायदों के बावजूद अब डेंगू डेंजर होता नजर आ रहा है। बीते चौबीस घंटे के दौरान एक बच्ची की डेंगू से मौत होने का मामला सामने आया है। बता दें कि बीते सप्ताह रोहणी के एक अस्पताल में एक महलिा की भी डेंगू फीवर वार्ड में मौत का मामला आया था। फिलहाल प्रशासन इस मामले को संदिग्ध श्रेणी में रखा है। रविवार को आए दूसरे मामले में पूर्वी किदवई नगर के ई1 टाइफ 3 में रहने वाली इस बच्ची का इलाज मैक्स पटपडगंज में चल रहा था। इसके पहले उसे केंद्र सरकार स्वास्थ्य योजना (सीजीएचएस) के क्लीनिक में चल रहा था। माना जा रहा है कि राजधानी में इस मौसम में डेंगू से यह पहली मौत है। हालांकि मैक्स अस्पताल प्रशासन ने इस मामले को फिलहाल डेंगू संदिग्ध श्रेणी में रखा गया है। उनका तर्क है कि मृत्यु की वजह डेंगू फीवर था या फिर बच्ची को कोई अन्य बीमारी थी। इस विषय में कुछ जांच रिपोर्ट्स के आने का हमें इंतजार है।
सरकार ने नकारा:
हालांकि मुख्यमंत्री अरविंद के जरीवाल ने ट्वीट के जरिया दावा किया है कि अभी दिल्ली में किसी भी पीड़ित की डेंगू पोजिटिव की मृत्यु की पुष्टि नहीं हुई है। दरअसल, पीड़ित के रिश्तेदार ने इस खबर को श्री केजरीवाल को टैग कर यह जानकारी दी थी। इसके जबाव में उन्होंने इस आश्य की पुष्टि की।
डेंगू फीवर से ही हुई मौत:
मृतक बच्ची 12वीं कक्षा की छात्रा थी। उसके पिता गोपाल रक्षा मंत्रालय में कार्यरत है। वह अपने परिवार के साथ किदवई नगर में रहती थी। इस कालोनी का निर्माण हाल ही एनबीसीसी ने किया था। इसके बाद लंबे समय यहां रहने वाले कें द्रीय कर्मचारियों को फ्लैट अलाट किया है। उधर, मैक्स हास्पिटल, पटपड़गंज के अधिकारी ने कहा कि बच्ची को यहां 8 नवम्बर को भर्ती कराया गया था। उसे डेंगू फीवर था जांच में पोजिटिव पाई गई थी। उसे तेज बुखार के साथ ही प्लेटलेट्स संख्या कम हो गई थी। जो समान्य थी। उसे सां लेने में भी तकलीफ हो रही थी। अन्तिम जांच के लिए रिपरेट दक्षिण दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) को भेजी गई है। फिलहाल इसे संदिग्ध कैटेगरी में रखा गया है।
परिजनों ने किया हंगामा:
बालिका की मौत से क्रोधित हो कर कॉलोनी वासियों ने एनबीसीसी के अधिकारी का घेराव किया और धरना दिया।
ईस्ट किदवई नगर में निर्माण कार्य पूरा करने से पहले ही इस्टेट्स आफिस ने सरकारी कर्मचारियों की जबरन यहां शिफ्ट जार दिया। यहां जगह पानी भरा हुआ है जिसके कारण याब तक 79 से अधिक लोग डेंगू की चपेट में आ गए है और कल रात एक बालिका की मौत भी हो गयी रेजिडेंट वेलफेयर सोसाइटी के अध्यक्ष निरंजन सिह के अनुसार, कॉलोनी में कोई सुविधा नहीं है। लेने का पानी साफ नहीं है, सफाई नहीं होती, जलभराव की संभावना रहती है। आरोप है कि केंद्रीय कर्मियों के लिए यहां एक भी सीजीएचएस डिस्पेंसरी तक नही खोली गई है। कॉलोनी वासियों ने रोष जताने के कजये आज धरना दिया और एनबीसीसी के परियोजना प्रबंधक आकाश सक्सेना का घेराव किया। लोगों ने एस्टेट्स आफिस में तैंनात कर्मचारियों के खिलाफ नारेबाजी की। इस मामले में श्री सक्सेना ने दावा किया कि स्वच्छ पानी आज से ही सामान्य कर दिया गया है। अन्य समस्याओं के लिए वे युद्धस्तर पर कार्रवाई करने का भी भरोसा दिलाया। दरअसल, यहां पर सरोजिनीनगर तो तोड़ने के लिए वहां के लोगों को अनिवार्य रूप से शिफ्ट किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here