लिट्टी-चोखा, चंपारण मीट जैसे व्यंजनों का लेना है स्वाद तो खुल गया ‘द बिहारी किचन’, शाहनवाज हुसैन ने किया उद्घाटन

0
44

भारत चौहान,बिहार के लोकप्रिय बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने नोएडा के सेक्टर 41 में ‘द बिहारी किचन’ का उद्घाटन किया। साथ ही बिहार के फेमस डिश लिट्टी चोखा का लुत्फ उठाया। इसके अलावा चंपारण मीट, सत्तू पराठा और परंपरागत डिश के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि बिहार के बाहर आकर हमें अपनी पहचान और अपनी संस्कृति नहीं खोनी चाहिए। और इसके लिए खान-पान से बेहतर और क्या हो सकता है। आज के बर्गर पिज़्ज़ा और फ़ास्ट फ़ूड के युग में लोगों को लिट्टी चोखा जैसा सुपाच्य खाना मिलना किसी वरदान से कम नहीं। इसका महत्व दिल्ली एनसीआर के वही लोग समझ सकते हैं जो एक बार इसे खाकर देखें। तभी बिहार के इस अतुलनीय डिश का दिल्ली वाले सही मायने में फायदा उठा सकते हैं।
इस मौके पर ‘द बिहारी किचन’ की ओनर मधुलता ने बताया कि इस किचन को खोलने का मुख्य उद्देश्य भारतीय व्यंजनों को प्रमोट करना और जन जन तक पहुँचाना है। शाहनवाज हुसैन जी ने द बिहारी किचन का सेक्टर,41 नोएडा में उद्घाटन किया।
माननीय शाहनवाज हुसैन ने कहा कि लोगों को अभी तक यही जानकारी है कि बिहार में लिट्टी चोखा फेमस है लेकिन हमारा लिट्टी चोखा ही नहीं और भी कई व्यंजन जैसे चंपारण मीट ,सरसों वाली मछली ,बिहारी स्टाइल चिकन और चूरा, ठेकुआ, सत्तू पराठा ,सत्तू कचौड़ी बिहार में जो बहुत फेमस है जिनका स्वाद लेने के लिए लोगों को बिहारी किचन आना होगा, जहां पर बिहार का स्वादिष्ट व्यंजन मिलेगा इसका स्वाद वास्तव में बहुत अनोखा है।

द बिहारी किचन की ऑनर मधुलता जी ने बताया दा बिहारी किचन खोलने का मुख्य उद्देश्य भारतीय व्यंजनों को प्रमोट करना ,जन जन तक पहुंचाने का कार्य करना, जैसे विदेशो मे सिर्फ दो या तीन चीजें ही खाने की थी , जैसे कोल्ड ड्रिंक, पिज्जा, बर्गर उन्होंने पूरी दुनिया को परोस दिया, लेकिन हमारे हिंदुस्तान में हजारों की संख्या में व्यंजन मौजूद है , जिन्हें प्रोत्साहन देने की आवश्कता है ।
बिहारी किचन का उद्देश्य यही है कि हम पारंपरिक प्रसिद्ध व्यंजन है ,उनको भी लोग प्रोत्साहन करने के लिए इसे देखकर आगे बढ़ें।
शुभारंभ के अवसर पर माननीय मंत्री शाहनवाज हुसैन जी, द बिहारी किचन की मालिक मधुलता विनोद तविश देव, उत्कर्ष देव ,प्रतीक ,डॉक्टर आलोक , श्वेता पारुल रणवीर कमलेश अश्वनी , नीरज ब्रजेश शुक्ला, कमलेश रमेश तथा कई जानी मणि हस्तिया
उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here