खाद्य अपमिश्रण की सुस्ती, मिलावटखोरों की चांदी

0
343

ज्ञानप्रकाश नई दिल्ली , त्यौहारी सीजन नजदीक आने के साथ ही राजधानी में खोया, मिठाई, दूध समेत अन्य दूध से बने खाद्य उत्पादों की मांग बढ़ गई है। दिल्ली सरकार का खाद्य निरोधी अपमिशण्रविभाग मिलावट खोरों के खिलाफ अंकुश लगाने में सुस्त है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग ने दावा किया है कि नमूने उठाने के लिए 19 खाद्य निरीक्षकों को तैनात किया है। इसके तहत 9 जिलों में बीते दो माह के दौरान 223 नमूने उठाए जिसमें से 76 फीसद नमूने राष्ट्रीय मानकों पर खरे नहीं पाए गए। हालांकि इसके लिए विभाग सख्ती बरती और 159 मिठाई बनाने वालों को नोटिस जारी किया है। इसके अलावा 12 को भविष्य में मिलावट न करने संबंधी शपथ पत्र देने के बाद राहत दी है जबकि 19 की दुकानें बंद करने का निर्देश जारी किया है। जिन दुकानों को बंद कराया गया है उनमें उत्तरी और पश्चिमी दिल्ली में 9 दुकानें जबकि करोलबाग, मध्य, शाहदरा उत्तरी, शाहदरा पुर्वी, बाहरी, शहरी क्षेत्र में 10 दुकानें को बंद करने के साथ ही कानूनी कार्रवाई शुरु की गई है।
दूध, खोवा, बेसन में सबसे ज्यादा मिलावट:
होली के मद्देनजर बाजारों में खाद्य पदाथरे की दुकानों पर जमकर मिलावट खोरी हो रही है। विभागीय उदासीनता के चलते मिलावट खोरों का मनोबल बढ़ा हुआ है। दूध, खोवा और बेसन में सबसे अधिक मिलावट खोरी देखने को मिल रही है।
जैसे-जैसे होली त्योहार नजदीक आता जा रहा है, वैसे-वैसे मिलावटीखोरी का धंधा तेज हो गया है। चावड़ी बाजार,सदर खोया मार्केट स्वास्थ्य विभाग के राडार पर है। एक अधिकारी ने कहा कि मिलावटी खोआ और दूध की सप्लाई होने लगी है। इस दौरान सबसे अधिक खोआ, दूध व बेसन के साथ ही अन्य खाद्या पदार्थो में मिलावट देखने को मिल रही है। खाद्य सुरक्षा विभाग जांच के नाम पर केवल औपचारिकता निभाने का काम करता है। खास बात यह है कि छापा पड़ने से पहले इसकी सूचना दुकानदारों को हो जाती है। जिससे वह अलर्ट हो जाते है।
आपूर्ति बाहर से:
दिल्ली में खोआ बाहर से आता है। जिसकी कोई जांच नहीं होती है। मिलावटी खाद्य पदार्थ के कारण लोग सूखे खाद्य पदार्थ का खरीदना और उसका सेवन करना मुनासिब समझ रहे है। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य सचिव संजीव खिरवाल के अनुसार त्योहार पर मिलावट खोरी के खिलाफ अभियान चलाने का निर्देश खाद्य विभाग को दे दिया गया है। जिले स्तर पर अधिकारी अभियान चलाकर कार्रवाई शुरू कर दिया है। जिसमें दुकानों से सेंपल लिया जा रहा है। कानूनी कार्रवाई भी कर रहे हैं।
सेहत का कर देती है बीमार:
मिलावटी खाद्य पदार्थ के सेवन करने से लोग विभिन्न प्रकार के रोगों से ग्रसित हो रहे है। मैक्स के कार्डियालॉजिस्ट्स डा. विवेका कुमार ने कहा अंधापन, लकवा तथा टयूमर, आंतों में संक्रमण, त्वचा खराब होने, कैंसर, हृदय की धमनियों में रुकावट जैसी खतरनाक बीमारियां हो सकती हैं। सामान्यत रोजमर्रा जिन्दगी में उपभोग करने वाले खाद्य पदाथरे जैसे दूध, छाछ , शहद, हल्दी, मिर्च, पाउडर, धनिया, घीं, खाद्य तेल, चाय-कॉफी, मसाले, मावा , आटा आदि में मिलावट की संभावना अधिक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here