थूक की पतली नली से 53 पत्थर निकाले गए -पैरोटिड ग्रंथि में इतनी बड़ी संख्या में पथरी होना दुलर्भ मामला

0
17

ज्ञान प्रकाश नई दिल्ली सूक्ष्म विधि से शल्यक्रिया क्षेत्र में भारतीय सर्जन्स ने महती सफलता हासिल की है। अब राजेंद्र नगर स्थित सर गंगाराम अस्पताल के डॉक्टरों ने एक 66 वर्षीय इराकी मरीज का ऑपरेशन किया और उसकी थूक की नली से 53 पथरी निकालीं। अस्पताल में नाक, कान, गला विभागे डा. वरूण राय ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। बगदाद, इराक में रहने वाली 66 वर्षीय महिला भोजन या पेय के बाद पैरोटिड ग्रंथि के बार-बार होने वाले दर्द और सूजन से पीड़ित थी। परामर्श के बाद उसे पता चला कि उसके दाएं तरफ पैरोटिड नली में कई पत्थर हैं और सबसे बड़ा पत्थर लगभग 8 मिमी आकार का है, जो नली के बीच में अटका हुआ है। जो संभवत: वि में पहला मामला है।
जटिल चुनौतीपूर्ण:
डा. राय ने दावा किया कि यह जटिल प्रक्रिया थी जिसे सफलता पूर्वक संपन्न किया गया। पैरोटिड ग्रंथि में इतनी बड़ी संख्या में पथरी होना काफी दुर्लभ मामला है। पैरोटिड ग्रंथि में पत्थरों की घटना सामान्य आबादी के 0.02 फीसद से कम है और कई पत्थर होना और भी दुर्लभ हैं। दरअसल, सबसे बड़ी चुनौती यह थी कि 3 मिमी चौड़ी नली पर कोई ज़ख्म लगे बिना सभी पत्थरों को हटा दिया जाए। शरीर में बिना किसी कट के बास्केट और फोरसेप्स का उपयोग करके पत्थरों को एक-एक करके हटाया गया। पूरी प्रक्रिया में दो घंटे लगे और अंत में 53 पत्थर निकाले गए। दुनिया भर के साहित्य की व्यापक समीक्षा के बाद पता चला कि पैरोटिड ग्लैंड के भीतर से 25 से अधिक पत्थर निकालने की घटना अभी तक कहीं भी रिपोर्ट नहीं हुई है। अपने देश और आसपास के अधिकांश डॉक्टरों ने पेरोटिड ग्रंथि को हटाने की एक प्रक्रिया का सुझाव दिया जो चेहरे पर एक भद्दा निशान छोड़ देता और उसके चेहरे को लकवाग्रस्त कर देता ।
कैसे पहुंची यहां:
मरीज सियालेंडोस्कोपी नामक एक प्रक्रिया के बारे में सुनकर भारत आई थी जहां सिर्फ 1.3 मिमी माप वाला एक छोटा एंडोस्कोप पैरोटिड ग्रंथि में डाला जाता है और रु कावट का कारण पता किया जाता है। इलाज की प्रक्रिया की शुरु आत हुई, जहां पैरोटिड नली की एंडोस्कोपी से पता चला और देखा गया कि सीटी स्कैन में बड़ा पत्थर वास्तव में छोटे पत्थरों का एक समूह है जो एक साथ फसा हुआ था। सितम्बर 2019 के आखिरी हफ्ते में इस महिला का ऑपरेशन किया गया।
खास बातें:
मरीज को जब उसके शरीर से निकाले गए पत्थरों को दिखाया गया तब उसने कहा कि मेरी ग्रंथि से निकाले गए पत्थरों की बड़ी संख्या है। इतने सारे पत्थर, मैं अब एक घर बना सकती हूं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here