अतिसुरक्षा के घेरें में कैद हुआ रावण, मेघनाद, कुंभकरण कुटुम्बकम् -दशहरा उत्सव आज, पुतला दहन में कई दिग्गज हस्तियां होगी सरीख -प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार द्वारका रामलीला के मंच पर दशहरा में होंगे सरीख

0
38

ज्ञानप्रकाश
नई दिल्ली , असत्य पर सत्य की विजय, बुराई पर सच्चाई की जीत से ओत प्रोत बीते नौ दिनों से मंचित की जा रही रामलीलाओं का मंचन भी अब अन्तिम चरण में है। मंगलवार को विजयदशमी उत्सव राजधानी में आयोजित की जाने वाली करीम एक हजार से अधिक रामलीला स्थलों पर अत्याचार, आसुरी ताकतों के प्रतीक रावण, मेघनाद, कुंभकरण के विशालकाय पुतलों का दहन किया जाएगा। इसके साथ ही कुछ रामलीला कमेटियां मंचन का समापन करेंगी तो कुछ बुधवार को भरत मिलाप की लीला के साथ इस अनुष्ठान को विधिवत संपन्न करेंगी। लीला मंचन में अति विशिष्ट अतिथियों के अलावा विभिन्न देशों के भारत में रह रहे 59 से अधिक राजनयिकों और राजदूत व उनके प्रतिनिधि भी लीला के अवलोकनार्थ आएंगे। ग्रीन आतिशबाजी का इस बार प्रदूषण के मद्देनजर लीला कमेटी ने पुतलों का निर्माण कराया है।
यहां शिरकत करेंगे ये वीवीआईपी:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारका श्रीरामलीला सोसायटी सैक्टर 10 के भव्य मंच पर पहली बार शिरकत करेंगे। वे यहां अपनी पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत मंगलवार को सायं 5 बजकर 20 मिनट तक पहुंचेंगे। उनके साथ ही इस लीला मंचन में भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डा. हषर्वर्धन, सांसद परवेश साहेब सिंह वर्मा, पूर्व मंत्री विजय गोयल, भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री सिद्धार्थन ने आमंतण्रस्वीकार किया है। लीला कमेटी के चेयरमैन राजेश गहलौत ने बताया कि सुरक्षा एजेंसियों ने तीन दिन पहले से ही पूर्ण लीला स्थल को अपने घेरे में ले लिया है। हम उनके दिशा निर्देशों के बाद ही लीला मंचन की तैयारियां कर रहे हैं। पुतलों को अति सुरक्षा के घेरे में रखा गया है। चूंकि आसपास गगनचुंबी सोसायटियां है जहां पर सघन आबादी रहती है। इस लीला में 50 स अधिक राजनयिकों को भी सपरिवार आमंत्रित किया गया है। बता दें कि अब के इतिहास में ऐसी परम्परा रही है कि प्रधानमंत्री बेशक की भी पार्टी की सरकार क्यों न हो वह परम्परागत तरीके से एतिहासिक लालकिला मैदान में आयोजित 50 साल से अधिक पुरानी श्रीधार्मिक लीला कमेटी के मंच पर लीला के अवलोकनार्थ दशहरा के दिन आते रहे हैं। लेकिन कहते हैं कि मोदी जी सदैव नया करते आए हैं, इस बार द्वारकावासियों के बीच वे दशहरा उत्सव मनाएंगे।
अन्य वीआईपी यहां:
श्रीधार्मिक लीला कमेटी, माधोपार्क, रेडफोर्ट ग्राउंड, लालकिला के सामने स्थित इस लीला के मंच पर उप राष्ट्रपति वैंकेया नायडू, कांग्रेस की अन्तरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह शिरकत करेंगे। तो वहीं नवश्री लीला कमेटी और लवकुश लालकिला के मैदान में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दशहरा में सरीख होने का आमंतण्रस्वीकार किया है। नवश्री लीला के सचिव राहुल शर्मा एवं लवकुश के प्रधान अशोक अग्रवाल ने इस आश्य की पुष्टि की। वैसे तो अन्य रामलीला स्थलों पर भी कई वीआईपी दशहरा पर्व में शिरकत करेंगे लेकिन लालकिला में मंचित की जाने वाली तीन रामलीलाओं के अलावा इस बार द्वारका श्रीराम लीला सोसायटी सैक्टर 10 के मंच पर देश के अति विशिष्ट गणमान्यों की उपस्थिति से रामभक्तों के साथ ही यह तय है दर्शकों और कलाकारों का का मनोबल बढ़ाएंगे।
पुतलों की लंबाई, कई अन्य आकषर्ण:
इस बार लीला कमेटियों ने पुतलों की लंबाई 75 फूट से लेकर 125 फुट तक निर्माण कराया है। पुतलों में सेटेलाइट के जरिए आतिबाजी का प्रावधान किया गया है। यहीं नहीं श्रीसनातनधर्म लीला कमेटी करोलबाग के सचिव प्रवीण कपूर ने बताया कि रावण के दश सिरों का घूमना, हुंकार की आवाज, कुंभकरण की आग उगलती आंखे, कान का मूछों का हीलना डूलना, कुंभकरण की हुंकार, राम रावण युद्ध में आकाशीय मांर्ग में देवी देवताओं की पुष्पावष्रा करना दर्शकों के आकषर्ण का केंद्र रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here