राजधानी दिल्ली के अस्पतालों की जाँच करवाकर ही मानेंगे मच्छर

0
599

भारत चौहान नई दिल्ली,शनिवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने दिल्ली स्वास्थ्य विभाग और एमसीडी को निर्देश दिए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की इस बैठक में मंत्री नड्डïा ने बताया कि दिल्ली के सभी सरकारी अस्पतालों में डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों से पीडि़त मरीजों का उपचार करने के लिए तमाम संसाधन पूरे हैं। इनकी जमीनी स्तर पर जांच के लिए विभागीय अधिकारियों को जिम्मेदारी दी है।

बैठक में स्वास्थ्य विभाग की ओर से बताया गया है कि अस्पतालों में जांच किट, दवाएं, टेस्टिंग लैब, फंड और स्टाफ की कमी नहीं है। मच्छरों को लेकर लगातार दिल्ली सरकार जागरुकता अभियान चला रही है। साथ ही एमसीडी की टीमें घरों में जाकर लार्वा की तलाश भी कर रही हैं। हालांकि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने अभियान पर जोर देते हुए ज्यादा से ज्यादा लोगों को इन बीमारियों के प्रति जागरूक करने और घरों के आसपास साफ सफाई के इंतजाम करने की अपील भी की है। इसके अलावा बैठक में मंत्री नड्डïा ने एक्टिव मामलों पर ज्यादा फोकस करने की हिदायत दी है। साथ ही उन्होंने कहा कि मच्छर जनित बीमारियों को लेकर अलग से रजिस्ट्री सिस्टम पर काम होना चाहिए। ताकि दिल्ली के हरेक इलाके में होने वाली गतिविधियों के बारे में सरकार तक जानकारी हो।

बता दें कि हर साल देश की राजधानी दिल्ली में गर्मियों और बरसात के दौरान मच्छर जनित बीमारियों का प्रकोप देखने को मिलता है। हर वर्ष इन बीमारियों के कारण सैंकड़ों लोगों की जान चली जाती है। पिछले वर्ष की बात करें तो डेंगू की वजह से 60 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। जबकि 12 से ज्यादा लोग चिकनगुनिया के साथ अन्य बीमारियां होने से मौत की चपेट में आए थे। यही नहीं स्वाइन फ्लू को लेकर भी दिल्ली में गंभीर स्थिति देखने को मिलती है। पिछले वर्ष की बात करें तो दिल्ली में 16 लोगों की मौत इस बीमारी की वजह से हुई थी। सरकार के नाकाफी इंतजामों को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट भी कई बार सरकार को फटकार भी लगाई थी। जिसके बाद एमसीडी और सरकार के स्तर पर मच्छरों के खिलाफ अभियान में तेजी लाने का प्रयास किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here