राहुल गांधी व्यापारियों का सहारा लेकर बिना किसी योजना के जीएसटी खत्म करने की कर रहे घोषणा -देश के 7 करोड़ व्यापारी हुए लामबंद- एकतरफा करेंगे मतदान -कांग्रेस ने आजादी से अब तक सदा की व्यापारियों की उपेक्षा

0
193

भारत चौहान
नई दिल्ली , कांफेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट)के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने आज कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की कड़ी आलोचना करते हुए कहा की वो सत्ता आने में पर जीएसटी को ख़्ात्म करने की बात कह रहे हैं जबकि उनके पास किसी अन्य वैकल्पिक कर व्यवस्था का कोई ब्लू प्रिंट नहीं है। व्यापारियों के कंधे पर बन्दूक रख कर अपना राजनैतिक निशाना साधने की इस कोशिश का श्री खंडेलवाल ने कड़ा विरोध किया और चेताया की श्री गांधी व्यापारियों का कन्धा इस्तेमाल कर कोई राजनीति न करे अन्यथा आगामी चुनावों में कांग्रेस को व्यापारी करारा जवाब देंगे। श्री खंडेलवाल ने ऐसे बयान की कड़ी निंदा करते हुए कहा की वो देश के व्यापारियों को मूर्ख समझने की गलती न करे। व्यापारी जानते हैं की उनके लिए क्या अच्छा है और क्या बुरा। उन्होंने जोर देकर कहा की श्री गांधी व्यापारियों को बतलाएं की देश के व्यापारियों के लिए उनके पास क्या योजनाएं और कार्यक्रम हैं।
राजधानी में आयोजित एक व्यापारी सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए श्री खंडेलवाल ने कहा की आजादी के बाद से अब तक देश में सबसे ज्यादा शासन कांग्रेस पार्टी ने किया है और इस कारण से ही कांग्रेस के लम्बे शासनकाल में देश के व्यापारियों को कभी सरकार ने अपनी प्राथमिकता पर नहीं रखा और कभी भी व्यापारियों के साथ न्याय नहीं हुआ। उन्होंने सवाल किया की राहुल बताएं की जब केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी तब कितनी बार वो व्यापारियों के प्रतिनिधिमंडल से मिले अथवा जिन राज्यों में कांग्रेस की सरकार थी उन राज्यों के मुख्यमंत्री कितनी बार व्यापारियों से मिले और कांग्रेस की केंद्र सरकार और राज्यों में सरकारों ने व्यापारियों के हितों के लिए क्या कदम उठाये। उनके शासनकाल में देश का व्यापार बद से बदत्तर होता गया जो आज भी नहीं संभल पाया है।
यह भी:
आगामी चुनावों के सन्दर्भ में देशभर के 7 करोड़ से अधिक व्यापारी अब एक वोट बैंक में पूर्ण रूप से तब्दील हो गए हैं। सनद् रहे कि कैट ने दो महीने पहले देश भर में एक देश – एक व्यापारी-दस वोट का राष्ट्रीय अभियान चलाया था जिसके अंतर्गत देश भर में फैले व्यापारी संगठनों ने विगत दो महीनों में 500 से अधिक व्यापारी सम्मेलन कर व्यापारियों को उनके वोट के महत्व के बारे में बताया और आगामी चुनावों में एकजुट होकर मतदान करने का आग्रह किया। यह अभियान पूरे देश में बेहद सफल रहा और अब देश के व्यापारी कैट के साथ खड़े हैं और एकजुट होकर आनेवाले चुनावों में एकतरफा मतदान करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here