मौर्य ने पंजाब के लोगों को दिया कुंभ आने का आमंत्रण

0
276

भारत चौहान अमृतसर, उत्तर प्रदेश के श्रम,सेवायोजन एवं समन्वय मंी स्वामी प्रसाद मौर्य ने 15 जनवरी 2019 से प्रारम्भ हो रहे कुम्भ की तैयारियों एवं व्यवस्थाओं की विस्तार से जानकारी देते हुए पंजाब की जनता को प्रयागराज कुम्भ में आने का आमांण शनिवार को दिया।
श्री मौर्य ने संवाददाताओं से कहा कि कुम्भ भारत की महान परम्परा का प्रतिनिधित्व करता है। 15 जनवरी 2019 से प्रयागराज में प्रारम्भ हो रहे कुम्भ के माध्यम से सर्वसाधारण को अपने अतीत के साथ एक बार फिर जुड़ने का अवसर प्राप्त होगा। देश के अन्दर चार स्थानों पर यह पविा आयोजन सम्पन्न होता है जिसमें प्रयागराज का कुम्भ अपने आप में देश और दुनिया के लिए कौतूहल एवं आकषर्ण का विषय बनता है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंी श्री नरेन्द्र मोदी जी के प्रयास से यूनेस्को द्वारा कुम्भ की महत्ता को देखते हुए इसे ‘मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत’ की सूची में सम्मिलित किया गया है। कुम्भ का शुभारम्भ गंगा जी की पूजा से होता है। प्रधानमंी जी द्वारा 16 दिसंबर, 2018 को प्रयागराज में गंगाजी के पूजन से कुम्भ का शुभारम्भ किया गया है।
श्री मौर्य ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंी योगी आदित्यनाथ जी के प्रयासों से जनमानस की भावनाओं के अनुरूप प्रयागराज नाम बदलकर इसकी ऐतिहासिक एवं पौराणिक प्रतिष्ठा को स्थापित किया गया है। उनके नेतृत्व में प्रयाग कुम्भ-2019 के सफल आयोजन के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा व्यापक प्रबन्ध किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का प्रयास है कि कुम्भ में आने वाले सभी तीर्थ याियों को श्रद्धा और भक्ति से आप्लावित माहौल प्राप्त हो। प्रधानमंी और मुख्यमंी के सम्मिलित प्रयासों से इस कुम्भ में पांच हजार से ज्यादा प्रवासी भारतीय भी आएंगे। सम्पूर्ण वि में मानवता के इस विशालतम समागम में भारत के छह लाख से अधिक गांवों के लोगों सहित वि से आने वाले श्रद्धालु भी इसमें प्रतिभाग करेंगे।
सरकार के प्रयासों एवं भारत सरकार के रक्षा मांलय के सहयोग से साढ़े चार सौ वर्षों में प्रथम बार कुम्भ में आने वाले श्रद्धालुओं को ‘अक्षय वट’ और ‘सरस्वती कूप’ के दर्शन का अवसर सुलभ होगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कुम्भ के भव्य और दिव्य आयोजन के लिए कटिबद्ध है। राज्य सरकार द्वारा स्थायी विकास की विभिन्न परियोजनाओं के साथ कुम्भ मेला 2019 हेतु 2800 करोड़ रुपये प्राविधानित किये गये। इसके अलावा अन्य बजट से कुल मिलाकर 4300 करोड़ रुपये से कुम्भ मेला और प्रयागराज में स्थायी विकास के कार्य कराये जा रहे हैं। इन परियोजनाओं से प्रयागराज में मूलभूत अवसंरचना सुविधाओं जैसे सड़क, सेतुओं का निर्माण, पेयजल, विद्युत सुधार, पर्यटन विकास आदि के कार्य किये गये हैं।
इससे पूर्व श्री मौर्य ने चण्डीगढ़ में पंजाब के राज्यपाल एवं मुख्यमंी को प्रयागराज कुम्भ में पधारने के लिए आमांित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here