गृह मंत्री पंहुचे अमृतसर -राजनाथ सिंह ने दरबार साहिब में टेका माथा

0
347

भारत चौहान अमृतसर केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज श्री दरबार साहिब में माथा टेका। वह यहां जलियांवाला बाग में शहीद ऊधम सिंह की प्रतिमा लगाने संबंधी कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए हैं।
इस अवसर पर सांसद प्रो. प्रेम सिंह चन्दूमाजरा, केन्द्रीय मंत्री विजय सांपला, सांसद श्वेत मलिक भी मौजूद थे। सच्चखंड श्री हरिमन्दर साहब के दर्शन उपरांत केंद्रीय गृह मंत्री को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति की तरफ से सूचना केंद्र में सिरोपा, शाल और सच्चखंड श्री हरिमन्दर साहब का सुनहरी माडल और धार्मिक पुस्तकें देकर सम्मानित किया गया।
अपनी भावनाएं व्यक्त करते हुए श्री सिंह ने विजिटर बुक में लिखा, मैं आज बहुत खुश हूँ क्योंकि मुझे पवित्र स्थान सच्चखंड श्री हरिमन्दर साहब में नतमस्तक होने पर गुरु साहब का आशीर्वाद मिला है। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति के प्रधान भाई गोविन्द सिंह लोंगोवाल ने श्री सिंह को मांग पत्र सौंप कर श्री दरबार साहिब के लंगर पर लगे जीएसटी को हटाने की मांग की। इसके अलावा पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब के लिए खुले रास्ते की भी मांग की है।
भाई लोंगोवाल ने कहा कि पूर्व मुखयमंत्री बेअंत सिंह की हत्या के आरोप में जेल में बंद बलवंत सिंह राजोआना (संशोधित नाम) को भी रिहा किया जाए। डेरा बाबा नानक में गुरु नानक देव से संबंधित गुरुद्वारे संबंधी श्री लोंगोवाल ने कहा कि इस ऐतिहासिक गुरुद्वारा को गिराने की बजाए इसी का जीर्णोंद्धार किया जाएगा।
शिरोमणि समिति प्रधान ने जम्मू-कश्मीर के सिखों को अल्पसंख्यक का दर्जा देने का मामला गृह मंत्री के समक्ष उठाया। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में सिखों को सरकारी नौकरियों और सरकारी योजनाओं में पर्याप्त हिस्सा नहीं
मिल रहा, इसलिए सिखों को जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यक का दर्जा दिया जाये। इसके अतिरिक्त 1984 में सच्चखंड श्री अकाल तख़्ा्त साहब पर किये गए फ़ौजी हमले के समय सिख रेफरेंस पुस्तकालय का सामान जो देश की सेना उठा ले गयी थी, वह तुरंत वापस किया जाये।
इन मांगों सम्बन्धित श्री सिंह ने शिरोमणि समिति प्रधान भाई गोविन्द सिंह लोंगोवाल को आाासन दिया कि वह जल्दी ही उनको मुलाकात के लिए समय देंगे, जिससे इन सभी मसलों के हल के लिए विचार किया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here