डा. त्यागी होंगे डीएमए के नए अध्यक्ष

0
785

ज्ञान प्रकाश नई दिल्ली
दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन (डीएमए) ने करीब चार हजार डॉक्टरों ने रविवार को दिल्ली मेडिकल काउंसिल (डीएमसी) के रजिस्ट्रार डा. गिरीश त्यागी को अपना नया प्रेसिडेंट इलेक्ट चुन लिया है। हालांकि डीएमसी के रजिस्ट्रार रहते हुए डॉ. त्यागी डीएमए का चुनाव लड़ सकते हैं या नहीं, इसे लेकर पहले ही मामला दिल्ली हाईकोर्ट के सामने पहुंच चुका है। जिसके बाद बीते वर्ष की ही तरह इस बार भी यह चुनाव विवादों की भेंट चढ़ता दिख रहा है।
रविवार को दिल्ली के पांच सेंटरों पर हुए इस चुनाव में वैसे तो कुल मतदाताओं की संख्या करीब 14 हजार है, इनमें प्राइवेट प्रैक्टीश करने वाले डॉक्टरों की संख्या ज्यादा है। लेकिन इनमें से केवल ने ही रविवार को अपना मत डालने की जहमत उठाई। इसमें से डा. क्ष्यागी और डा. राजीव सूद को मत मिले। इस आधार पर डा. त्यागी 1142 मतों से विजयी रहे। इनका कार्यकाल आगामी एक अप्रैल से शुरु होगा।
विवाद की वजह:
डीएमए के अध्यक्ष (इलेक्ट) पद के दूसरे प्रत्याशी डा. राजीव सूद ने डा. त्यागी के नामांकन के समय ही आपत्ति उठाई थी कि डीएमसी के रजिस्ट्रार जैसे पद पर रहते हुए कोई भी शख्स डीएमए का चुनाव कैसे लड़ सकता है। डॉ. सूद की माने तो फिलहाल डीएमसी के पास 400 से भी ज्यादा डॉक्टरों के मामले लंबित हैं। इन्हें और इनके जैसे सैकड़ों डॉक्टरों वे आसानी से प्रभावीत कर सकते हैं। उनकी नजरों में यह जज हो कर वकीलों का चुनाव लड़ने जैसा है। इसके अलावा उनका आरोप है कि चुनाव लड़ने के लिए भी डॉ. त्यागी ने डीएमसी से अनुमति नहीं लिया है। इसे लेकर बीते सप्ताह उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया था। जिसके बाद कोर्ट ने डीएमसी को 15 दिनों में यह बताने को कहा था कि क्या इन परिस्थितियों में डॉ. गिरीश त्यागी चुनाव लड़ सकते हैं या नहीं।
इनकी नजर में:
इस पर डा. त्यागी पहले ही साफ कर चुके हैं कि वह सिर्फ रजिस्ट्रार हैं जो मामलों की सुनवाई के लिए कमेटी बनाता है और कमेटी के निर्णय को आगे बताता है। मामलों के निर्णय से उनका कोई ताल्लुक नहीं है। उनका कहना है कि कोर्ट का रजिस्ट्रार कोर्ट में निर्णय नहीं देता है। उनका यह भी कहना है कि ऐसे मामले पहले भी आ चुके हैं, जब राज्य मेडिकल काउंसिल के पदाधिकारी राज्य मेडिकल एसोसिएशन का भी चुनाव लड़कर पदाधिकारी बन चुके हैं। बता दें कि पिछले साल भी डीएमए के चुनाव में विवाद हो गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here