एम्स के डाक्टर कर सकते है अभिन्दन का इलाज एमआरआई से हुई पसली टूटने, पीठ में अंदरूनी चोट का चला पता अगले 24 घंटे में होगी कई प्रकार की रेंडम जांच

0
345

ज्ञानप्रकाश/भारत चौहान
नई दिल्ली , पाकिस्तान भले ही दावा कर रहा हो कि विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान के साथ हिरासत में अच्छा बर्ताव किया गया, लेकिन ये पूरी तरह गलत है। खुद विंग कमांडर अभिनंदन ने कहा है कि पाकिस्तानी सेना ने हिरासत के दौरान उनका काफी मानिसक उत्पीड़न किया। आर्मी हास्पिटल रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में कम्पलीट मेडिकल चेकअप करा रहे अभिनंदन ने बताया है कि हिरासत के दौरान उनका शारीरिक उत्पीड़न नहीं किया गया था, लेकिन मानिसक तौर पर काफी प्रताड़ित किया गया। दिल्ली में अभी भी उन्हें 2 दिन तक और अस्पताल में डॉक्टरों की निगरानी में रखा जाएगा।
व्यवहार है सामान्य लेकिन एक्शन स्लो:
मेडिकल जांच टीम में शामिल एक वरिष्ठ डाक्टर ने नाम का खुलासा नहीं करने की शर्त पर बताया कि उनका व्यवहार सामान्य है, लेकिन जिस तरह से एक नार्मल व्यक्ति को एक्ट करना चाहिए वह सामान्य से काफी सुस्त है। मसलन जब उनसे कुछ पूछा जाता है तो वे कुछ देर बाद ही जबाव मध्यम आवाज में धीमी गति से दे पाते हैं। कई तरह की रेंडम जांचें की जा रही है। मेडिकल रिपोर्ट्स का विश्लेशण किया जा रहा है। डाक्टरों की टीम के साथ ही अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डाक्टरों की टीम से भी परामर्श लिया जा सकता है। इसके लिए फिलहाल अस्पताल प्रशासन को रक्षा मंत्रालय से अनुमति मिलने का इंतजार है। जब वह सांस लेते हैं तो उनकी पसलियों में में सिहरन के साथ दर्द होता है।
दो दिन और:
मेडिकल जांच के आधार पर सूत्रों ने बताया कि विंग कमांडर अभिनंदन मंगलवार को अस्पताल से डिस्चार्ज हो सकते हैं। यानी अभी उन्हें कम से कम दो दिन रखने की प्लानिंग है, कुछ रिपोर्ट्स नार्मल होने का हम इंतजार कर रहे हैं। इमेजिंग रिलेटिड जांच में पता चला है कि पसली टूटने, पीठ में अंदरु नी चोट के बारे में पता चला है। दरअसल, ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि उन्हें यह चोटें विमान से जमीन में गिरने से हुई। हालांकि पैरासूट का प्रयोग इस जांबाज ने किया था लेकिन यह भी संभावना जताई जा रही है कि अभिनंदन की पसली, विमान से जमीन पर गिरने के कारण या फिर हिंसक भीड़ द्वारा टूटी। अभिनंदन की आंख और चेहरे पर भी कुछ जख्मों के निशान हैं।
की गई एमआरआई:
इसलिए उनका एमआरआई किया गया है, जिसमें बीते चैाबीस घंटे के सघन चिकित्सीय जांच के दौरान किसी गंभीर चोट के बारे में जानकारी नहीं मिली है। वहीं पीठ की चोट विमान से गिरने के कारण लगी हो सकती है। बता दें कि शनिवार को रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी आर्मी अस्पताल (आरआर) में विंग कमांडर अभिनंदन से मुलाकात की थी। रक्षा मंत्री ने पायलट से उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली थी। एक रिपोर्ट के हवाले से अधिकारी ने कहा कि विंग कमांडर ने वायुसेना के अधिकारियों को बताया है कि पाकिस्तान की हिरासत में रहने के दौरान उन्हें शारीरिक तौर पर प्रताड़ित नहीं किया गया, लेकिन मानिसक तौर पर काफी प्रताड़ित किया गया।
इन जांचों की आनी है रिपोर्ट:
एक अधिकारी ने कहा कि अगले 48 घंटे के दौरान अभिनंद की नैदानिक जांच के तहत चिकित्सा जांच दल ने रणनीति तय की है। जिसके तहत उनका दूसरे चरण में एमआरआई, पैट स्कैन, सिटी स्कैन जरूरी हुआ तो तीन से चार बार रेंडम एक्सरे किया जा सकता है। उन्हें उनकी मन पसंद का भोजन व तरल पदार्थ मुहैया कराया जा रहा है। फिलहाल अब तक जांच में यह बात स्पष्ट हो चुकी है कि पाकिस्तानी सैन्य बल ने उनके शरीर के किसी भी हिस्से में चिप या पर किसी भी प्रकार का बग प्रत्यारोपित नहीं किया है। स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि उनकी मेंटल साइक्लॉजी का भी अध्ययन कर रहे हैं। इसके लिए ब्रेन मैपिंग (दिमागी कोशिकाओं की जांच) कहीं उन्हें कोई नशीला द्रव्य तो नहीं पिलाया गया, आंतों की परत के उपरी सतह कैसी है, कहीं जहरीला द्रव्य तो नहीं बन रहा है, के लिए इंडास्कोपी, हड्डी की स्थिति का आकलन करने के लिए बोन डेनिसिटी टेस्ट (बीडीटी) आदि शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here