68 वर्षीय महिला के गर्भ से एक किलो वजनी ट्यूमर निकाला

0
289

ज्ञान प्रकाश नई दिल्ली , बुजुर्ग महिलाओं में लंबे समय से चली आ रही स्वास्थ्य समस्याओं के लिए बड़े आकार के ट्यूमर भी जिम्मेदार हो सकते हैं। सर गंगाराम अस्पताल में एक 68 वर्षीय महिला के गर्भ में से डॉक्टरों ने एक किलो वजनी ट्यूमर निकाला है। आमतौर पर रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं के गर्भ में ट्यूमर मिलना बेहद दुर्लभ माना जाता है। इस ट्यूमर की वजह से महिला को लगभग एक महीने से पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द हो रहा था। इस मामले को दुबई के मशहूर शोध पत्र स्कॉलर इंटरनेशनल जर्नल के हालिया अंक में प्रकाशित किया गया है।
गंगाराम अस्पताल में प्रसूति विभाग की डा. कनिका चोपड़ा ने बताया कि बुजुर्ग महिला अस्पताल पेट में तेज दर्द, जी मिचलाने की शिकायत पर आई थी। उनकी जांच की गई तो पता चला कि उनके गर्भ में एक ट्यूमर मौजूद है। हालांकि इस उम्र में महिला के गर्भ में इतना बड़ा ट्यूमर होगा, यह उम्मीद नहीं थी। जांच में पता चला कि यह ट्यूमर गर्भ में पलने वाले चार माह के शिशु के आकार के बराबर था। इसके बाद डॉक्टरों ने हाइब्रिड तकनीक की मदद से सर्जरी का फैसला किया। चूंकि ट्यूमर का आकार बड़ा था तो इसलिए पेट में एक इस तरह का चीरा लगाकर ट्यूमर को छोटे-छोटे टुकड़ों में काटने के बाद निकालने का फैसला किया गया। इस ट्यूमर के बाहर निकलने के बाद इसका वजन एक किलोग्राम मापा गया। डॉक्टर कनिका चोपड़ा को मुताबिक महिला को चार दिन बाद ही डिस्चार्ज कर दिया गया। अब वह बिल्कुल स्वस्थ हैं।
इस उम्र में गर्भ में ट्मूमर बेहद दुर्लभ है:
इस उम्र में महिलाओं को रजोनिवृत्ति के बाद ट्यूमर मिलना बेहद दुर्लभ मामला है। अगर मामले में परंपरागत तरीके से सर्जरी कर ट्यूमर निकालने की कोशिश की जाती तो महिला की जान जा सकती थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here